क्या हम श्याम बाबा की फोटो घर पर रख सकते हैं | Kya Khatu Shyam Ki Photo Ghar Par Rakh Sakte hai

By | May 17, 2024
क्या हम श्याम बाबा की फोटो घर पर रख सकते हैं

क्या हम श्याम बाबा की फोटो घर पर रख सकते हैं – खाटू श्याम जी जिन्हें श्याम बाबा के नाम से भी जाना जाता है यह हमारे हिंदू धर्म में हमारे प्रमुख देवताओं में से एक हैं इनका मंदिर राजस्थान के सीकर जिले के खाटू गांव में स्थित है श्याम बाबा के दर्शन करने के लिए लाखो लोग दूर-दूर से देश-विदेश से आते हैं और पूरी भक्ति भाव से उनके दर्शन करते हैं और जब वह श्याम बाबा के दर्शन करने के लिए आते हैं तो उनके मन में सवाल आता है कि क्या हम श्याम बाबा की तस्वीर या मूर्ति घर पर ले जाकर उसी भक्ति भाव से उनकी पूजा कर सकते हैं तो इस लेख में आज हम आपको बताते हैं कि श्याम बाबा की फोटो घर पर रखनी चाहिए या नहीं|

क्या हम श्याम बाबा की फोटो घर पर रख सकते हैं? Kya Khatu Shyam Ki Photo Ghar Par Rakh Sakte hai

सनातन धर्म में भगवान की मूर्ति व तस्वीर की पूजा करने की परंपरा सदियों से चलती आ रही है हम भगवान की मूर्ति में भगवान की छवि देखते हैं और विश्वास मानकर हम उस मूर्ति की पूजा करते हैं जी हां हम खाटू श्याम जी की मूर्ति भी घर में रखकर इस भक्ति और भाव से उनकी पूजा कर सकते हैं जिससे कि भक्तों को मन में मानसिक शांति का लाभ प्राप्त हो और बाबा श्याम की कृपा उन पर बनी रहे|

Also Readखाटू श्याम कब जाना चाहिए

यदि आप श्याम बाबा की फोटो घर में रखते हैं तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा

यदि आप खाटू श्याम जी की मूर्ति घर में रखना चाहते हैं तो आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि भगवान की मूर्ति का मुख्य किस दिशा में होना चाहिए यदि ऐसा ना हो तो हो सकता है कि आपकी पूजा पाठ का फल आपका ना मिले श्याम बाबा की फोटो जहां पर भी आप रखते हैं उसे स्थान को हमेशा स्वस्थ रखें पूजा की सामग्री व उनके उपयुक्त वस्त्र आभूषण उनको पहनाए और घर में जो आपका पूजा का स्थान है श्याम बाबा की फोटो आपको वही रखनी चाहिए और श्याम बाबा की फोटो रखने के साथ-साथ काम कौन की नियमित रूप से पूजा करनी होगी और अन्य धार्मिक अनुष्ठानों का पालन करना होगा|

Also Readजानिए खाटू श्याम जी का इतिहास

जानिए आप घर पर खाटू श्याम जी की पूजा कैसे कर सकते हो 

आप घर पर भी खाटू श्याम जी की पूजा कर सकते हैं आप एक थाली में रोली और बाबा को भोग लगाने के लिए चूरमा बना सकते हैं और पूजा के दौरान श्याम बाबा के भजन व श्याम बाबा की चालीसा का पाठ करते रहें और याद रखेगी जहां पर भी बाबा की पूजा कर रहे हैं उसे स्थान को साफ रखें और श्याम बाबा की आरती के साथ आप हनुमान जी की भी आरती कर सकते हैं अंत में भगवान को प्रसाद चढ़ाने के बाद आप सभी भक्तों को प्रसाद आस-पड़ोस में बांट कर सकते हैं

जानिए खाटू श्याम जी की पूजा करने से आपके जीवन में क्या लाभ होंगे

खाटू श्याम जी को कलयुग का कृष्ण भगवान माना गया है भगवान श्री कृष्ण ने बर्बरीक जो  की खाटू श्याम जी है उनको वरदान दिया था कि कलयुग में वह श्याम के नाम से पूजे जाएंगे और मान्यता है कि जो भी भक्त सच्चे मन से खाटू श्याम जी की पूजा करता है या फिर उनका नाम का उच्चारण करता है उसका उद्धार आवश्य होता है खाटू श्याम जी को हारे का सहारा भी कहा गया है कहते हैं कि जो भी व्यक्ति अपने जीवन में हार जाता है या फिर दुखी हो जाता है अगर वह खाटू श्याम जी की सच्चे मन से भक्ति करे तो खाटू श्याम जी उसके सब दुख हर लेते हैं इसलिए यदि आप खाटू श्याम जी की पूजा करते हैं तो उससे आपके जीवन में बहुत लाभ होंगे|

 

 

खाटू श्याम बाबा की तस्वीर कौन सी दिशा में लगाना चाहिए?

यदि भगवान की मूर्ति का मुख सही दिशा में ना हो तो पूजा पाठ का सही फल हमें नहीं मिल पाता है हमारे हिंदू का धर्म में मंदिर हो या घर उसका मुख सही दिशा में होना चाहिए तो आपको भी कोई भी भगवान की तस्वीर हो उसकी दिशा के अनुसार ही लगाना चाहिए यदि आप खाटू श्याम जी की मूर्ति अपने घर में लगाना चाहते हैं तो निश्चित करे की उसका मुख्य पूर्व दिशा में होना चाहिए हमारे धर्म में पूर्व दिशा को सकारात्मक ऊर्जा की दशा माना गया है सूर्य भगवान भी इसी दिशा से उदय होते हैं इस कारण हमारे धर्म में पूर्व दिशा को शुभ माना गया है

 

खाटू श्याम बाबा के अन्य लेख – Kya Khatu Shyam Ki Photo Ghar Par Rakh Sakte hai

खाटू श्याम व्हाट्सएप स्टेटस खाटू श्याम मंदिर क्यों प्रसिद्ध है
खाटू श्याम जी शायरी खाटू श्याम मंदिर कांटेक्ट नंबर
बाबा खाटू श्याम कोट्स जाने श्याम बाबा की पूजा कैसे करनी चाहिए
Shri Khatu Shyam Images खाटू श्याम में क्या प्रसाद चढ़ता है
खाटू श्याम के चमत्कार खाटू श्याम बाबा के 11 प्रसिद्ध नाम
खाटू श्याम बाबा को प्रसन्न करने के उपाय खाटू श्याम बाबा की अर्जी कैसे लगाई जाती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *