Khatu Shyam Aarti | श्री खाटू श्याम जी की आरती | Khatu Shyam Aarti Process

By | May 16, 2024
Khatu Shyam Aarti

Khatu Shyam Aarti: खाटू श्याम, जिन्हें खाटू श्याम जी, नीले घोड़े का सवार, तीन बाण धारी, लखदातार, हारे का सहारा, शीश का दानी, मोर्वीनंदन, खाटू वाला श्याम, खाटू नरेश, श्याम धनी, आदि के नाम से भी जाना जाता है, हिंदू धर्म में पूजे जाने वाले एक लोकप्रिय देवता हैं। वह महा बलशाली घटोत्कच और मोर्वी के पुत्र हैं। खाटू श्याम को भगवान कृष्ण का रूप माना जाता है और भारत और दुनिया भर में लाखों भक्तों द्वारा उनकी पूजा की जाती है। खाटू श्याम की पूजा के आवश्यक पहलुओं में से एक आरती का प्रदर्शन है। इस ब्लॉग में, हम खाटू श्याम आरती (Khatu Shyam Aarti) के महत्व को समझेंगे

देखिये तो आपके लिए क्या आवश्यक हैं ?

खाटू श्याम आरती – Khatu Shyam Aarti

जानिए खाटू श्याम जी का इतिहास क्लिक करें
खाटू श्याम को कौन सा फूल पसंद है? क्लिक करें
खाटू श्याम कौन हैं तथा उनसे जुड़ी 10 बातें क्लिक करें
खाटू श्याम जी की आरती क्लिक करें
खाटू श्याम जी भजन लिरिक्स क्लिक करें

हिंदू धर्म में आरती का महत्व: Importance of Khatu Shyam Aarti

Khatu Shyam Aarti

आरती एक आवश्यक हिंदू अनुष्ठान है जिसमें दीपक, धूप, फूल और अन्य पवित्र वस्तुओं की पेशकश करके देवता की पूजा करना शामिल है। ऐसा माना जाता है कि आरती देवता के साथ आध्यात्मिक संबंध स्थापित करने और उनका आशीर्वाद लेने में मदद मिलती है। हिंदू धर्म में, आरती दिन में कई बार की जाती है, खासकर सुबह और शाम के समय। और ऐसा भी माना जाता है कि आरती (Khatu Shyam Aarti)सेआसपास का वातावरण शुद्ध होता है

इतिहास और उत्पत्ति: Khatu Shayam Aarti History

खाटू श्याम आरती की उत्पत्ति प्राचीन काल में देखी जा सकती है जब देवता की पहली पूजा की जाती थी। ऐसा माना जाता है कि आरती सबसे पहले खाटू श्याम के भक्तों द्वारा उनके प्रति अपनी श्रद्धा और भक्ति दिखाने के लिए की गई थी। समय के साथ, आरती खाटू श्याम की पूजा का एक अनिवार्य हिस्सा बन गई, और अब यह दुनिया भर के मंदिरों और घरों में प्रतिदिन की जाती है।

Khatu Shyam History | Khatu Shyam Shayari | Khatu Shyam Aarti

Topic
Khatu Shyam Aarti
article type Article
Aur Jaane Kaun Hai Baba Khatu Shyam
Aur Jaane Khatu Shyam Shayari

 

खाटू श्याम आरती की तैयारी: Khatu Shyam Aarti

Khatu Shyam Aarti

खाटू श्याम आरती ( Khatu Shyam Aarti ) करने से पहले, अनुष्ठान की तैयारी करना आवश्यक है। भक्त को स्नान करके या हाथ-पैर धोकर स्वच्छ वस्त्र धारण करने चाहिए। उन्हें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि आरती की वस्तुएं, जैसे दीपक, धूप और फूल तैयार हैं और देवता की मूर्ति या तस्वीर के सामने रखे गए हैं।

Also read: श्री दुर्गा चालीसा: Durga Chalisa PDF Download

खाटू श्याम आरती प्रक्रिया: Khatu Shyam Aarti Process

खाटू श्याम की आरती प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण शामिल हैं:

घंटी बजाना: आरती की शुरुआत घंटी बजाने से होती है, जिसे आरती की शुरुआत का प्रतीक माना जाता है।

दीपक जलाना: अगला स्टेप दीपक जलाना है, जो देवता के प्रकाश का प्रतिनिधित्व करता है। दीपक को खाटू श्याम की मूर्ति या तस्वीर के सामने रखा जाता है।

अगरबत्ती/धूप चढ़ाना: इसके बाद भक्त देवता को अगरबत्ती या धूप चढ़ाते हैं है, जिसके बारे में माना जाता है कि यह आसपास के वातावरण को शुद्ध करती है और शांति और समृद्धि लाती है।

फूल चढ़ाना: भक्त देवता को फूल चढ़ाते हैं, जो खाटू श्याम के प्रति उनके प्रेम और भक्ति का प्रतीक है।

आरती भजन गाना: अंतिम चरण देवता के सामने दीपक लहराते हुए खाटू श्याम आरती भजन गाना है।

खाटू श्याम आरती में प्रत्येक स्टेप का महत्व: Importance of Khatu Shyam Aarti Process

खाटू श्याम आरती प्रक्रिया के प्रत्येक चरण का अपना महत्व है। माना जाता है कि घंटी बजाना अनुष्ठान की शुरुआत का संकेत देता है और देवता की उपस्थिति का आह्वान करता है। दीपक जलाना देवता के प्रकाश का प्रतिनिधित्व करता है और किसी के जीवन से अंधकार को दूर करने का प्रतीक है। ऐसा माना जाता है कि अगरबत्ती चढ़ाने से वातावरण शुद्ध होता है और शांति और समृद्धि आती है। फूल चढ़ाना खाटू श्याम के प्रति भक्त के प्रेम और भक्ति को दर्शाता है। माना जाता है कि दीपक को लहराते हुए ( Khatu Shyam Aarti ) खाटू श्याम आरती का गायन देवता के साथ आध्यात्मिक संबंध स्थापित करता है और उनका आशीर्वाद मिलता है।

आरती के समय क्या नहीं करना चाहिए / सामान्य गलतियाँ: Avoid Khatu Shyam Aarti Mistake

( Khatu Shyam Aarti ) खाटू श्याम आरती करते समय सामान्य गलतियों से बचना आवश्यक है। भगवान की आरती करने में हड़बड़ी नहीं करनी चाहिए या इसे आधे-अधूरे मन से नहीं करना चाहिए। आरती करते समय स्वच्छता और शुद्धता का ध्यान रखना आवश्यक है। दीपक को देवता की मूर्ति या तस्वीर के बहुत पास नहीं रखना चाहिए, क्योंकि इससे नुकसान हो सकता है। अंत में, भक्त को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे आरती के भजन को सही ढंग से और भक्ति के साथ गाया जाए।

श्री खाटू श्याम जी की आरती | Shri Khatu Shyam Aarti

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे ।
खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे ॥ ॐ जय श्री श्याम …

रतन जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुरे ।
तन केसरिया बागो, कुंडल श्रवण पड़े ॥ ॐ जय श्री श्याम …

गल पुष्पों की माला, सिर पार मुकुट धरे ।
खेवत धूप अग्नि पर, दीपक ज्योति जले ॥ ॐ जय श्री श्याम …

मोदक खीर चूरमा, सुवरण थाल भरे ।
सेवक भोग लगावत, सेवा नित्य करे ॥ ॐ जय श्री श्याम …

झांझ कटोरा और घडियावल, शंख मृदंग घुरे ।
भक्त आरती गावे, जय-जयकार करे ॥ ॐ जय श्री श्याम …

जो ध्यावे फल पावे, सब दुःख से उबरे ।
सेवक जन निज मुख से, श्री श्याम-श्याम उचरे ॥ ॐ जय श्री श्याम …

श्री श्याम बिहारी जी की आरती, जो कोई नर गावे ।
कहत भक्तजन, मनवांछित फल पावे ॥ ॐ जय श्री श्याम …

जय श्री श्याम हरे, बाबा जी श्री श्याम हरे ।
निज भक्तों के तुमने, पूरण काज करे ॥ ॐ जय श्री श्याम …

॥ इति श्री खाटू श्याम आरती संपूर्णम् ॥

 

Shree Khatu Shyam Aarti: श्री खाटू श्याम आरती

खाटू श्याम आरती – Khatu Shyam Aarti

खाटू श्याम चालीसा क्लिक करें
जानें खाटू श्याम बाबा के 11 प्रसिद्ध नाम क्लिक करें
भगवान कृष्ण के 108 नाम क्लिक करें
खाटू श्याम व्हाट्सएप स्टेटस क्लिक करें
खाटू श्याम जी शायरी क्लिक करें
बाबा खाटू श्याम कोट्स क्लिक करें
Shri Khatu Shyam Images क्लिक करें
सफलता का श्याम मंत्र क्लिक करें
खाटू श्याम के चमत्कार क्लिक करें
खाटू श्याम बाबा को प्रसन्न करने के उपाय क्लिक करें

FAQs – Khatu Shyam Aarti 

Q. खाटू श्याम आरती क्या है?

खाटू श्याम आरती भगवान कृष्ण के अवतार भगवान खाटू श्याम से आशीर्वाद लेने के लिए दीपक को लहराने और भजन गाने का एक हिंदू अनुष्ठान है।

Q. खाटू श्याम आरती करने के क्या लाभ हैं?

माना जाता है कि खाटू श्याम की आरती करने से भगवान कृष्ण और उनसे जुड़े अन्य देवताओं का आशीर्वाद और लाभ मिलता है। यह भी माना जाता है कि यह मन को शुद्ध करके और सकारात्मक ऊर्जाओं का आह्वान करके आध्यात्मिक विकास और ज्ञानोदय में सहायता करता है।

Q,. खाटू श्याम की आरती कब की जाती है?

खाटू श्याम आरती कई हिंदू त्योहारों और अवसरों का एक अभिन्न अंग है, जैसे कि खाटू श्यामजी मेला, जो राजस्थान में खाटू श्याम मंदिर में प्रतिवर्ष होता है। आरती कृष्ण जन्माष्टमी और होली जैसे अन्य त्योहारों और अवसरों के दौरान भी की जाती है।

Q. खाटू श्याम की आरती कैसे की जाती है?

खाटू श्याम आरती में विभिन्न चरण शामिल होते हैं, जैसे फूल और धूप चढ़ाना, दीपक लहराना और भजन और मंत्रों का जाप करना। अनुष्ठान भगवान खाटू श्याम के प्रति श्रद्धा और सम्मान के साथ किया जाता है।

Q. क्या खाटू श्याम की आरती घर पर की जा सकती है?

हां, खाटू श्याम की आरती घर या मंदिर में की जा सकती है। इसे अपनी साधना के एक भाग के रूप में अपनी दिनचर्या में शामिल किया जा सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *